पानीपत मूवी रिव्यू संजय दत्त | पानीपत | कृति सैनन | अर्जुन कपूर | Sanjay Dutt | panipat movie review in hindi | Panipat movie review | Panipat | Kriti Sanon | Arjun Kapoor

रेखा खान
इतिहास को फिल्मी परदे पर रचने में निर्देशक आशुतोष गोवारिकर को मास्टरी हासिल है। इस बार भी अपनी महारथ के अनुरूप वे पानीपत के रूप में इतिहास से पानीपत के उस तीसरे युद्ध को लाए हैं, जिसमें शौर्य, जांबाजी, प्रेम, बलिदान सभी कुछ है। पानीपत का तीसरा युद्ध इतिहास में मराठा और मुगल साम्राज्य के लिए बहुत अहम स्थान रखता है। आशुतोष गोवारिकर ने उस अध्याय को सिनेमैटिक लिबर्टी के साथ न्याय देने का पूरा प्रयास किया है।

कहानी: सदाशिव राव भाऊ (अर्जुन कपूर) अपने चचेरे भाई नाना साहब पेशवा (मोहनीश बहल) की सेना का जांबाज पेशवा है। फिल्म के पहले सीन में ही वह युद्ध में विजयी होकर लौटता है और नाना साहब पेशवा के दरबार में उसका सम्मान किया जाता है। उदगीर के निजाम को परास्त करने के बाद जब सदाशिव राव भाऊ का रसूख और ख्याति दरबार में बढ़ती है, तो पेशवा की पत्नी गोपिका बाई (पद्मिनी कोल्हापुरे) इस बात को लेकर असुरक्षित हो जाती है कि कहीं गद्दी का वारिश सदाशिव न बन जाए। वह अपने पुत्र विश्वास राव (अभिषेक निगम) को गद्दीनशीन देखना चाहती है। यहां राज वैद्य की बेटी पार्वती बाई (कृति सेनन) सदाशिव से प्रेम करने लगती है और जल्द ही वे विवाह के बंधन में बढ़ जाते हैं। दूसरी तरफ सदाशिव के प्रभाव को कम करने के लिए उसे युद्ध से हटाकर धनमंत्री बना दिया जाता है। तभी दिल्ली की गद्दी को हथियाने के लिए नजीब उद्दौला (मंत्रा) अफगानिस्तान के बादशाह अहमद शाह अब्दाली (संजय दत्त) के साथ हाथ मिलाता है। ऐसे समय में दिल्ली की गद्दी और देश को बचाने के लिए मराठा सेना का नेतृत्व सदाशिव राव भाऊ को सौंपा जाता है। वहां अहमद शाह अब्दाली शुजाउद्दौला (कुनाल कपूर) के साथ मिलकर मराठाओं और भारत के तमाम राजाओं के खिलाफ मोर्चा खोल देता है। पानीपत के मैदान में सदाशिव और अब्दाली की जंग के बीच वीरता और शौर्यता के साथ-साथ विश्वासघात भी परवान चढ़ता है।

पानीपत मूवी रिव्यू

रिव्यू: निर्देशक के रूप में आशुतोष गोवारिकर ने इतिहास के उस जटिल अध्याय को चुना है, जहां सत्ता के लिए पीठ पर खंजर भोंकना आम बात थी। पेशवा शाही की अंदरूनी राजनीति के साथ-साथ दिल्ली की जर्जर होती स्थिति और अपने निजी स्वार्थों के लिए देश की सुरक्षा को दांव पर लगाने वाले राजाओं के साथ आशुतोष ने उन वीरों की शौर्यगाथा का भी चित्रण किया है, जो देश की आन-बान के लिए शहीद हो गए थे। ऐतिहासिक फिल्म होने के कारण किरदारों की भरमार है, तो कई जगहों पर फिल्म लंबी और खिंची हुई लगती है। एडिटिंग धारदार होनी चाहिए थी। फिल्म के कई डायलॉग्ज मराठी में होने के कारण अमराठी भाषियों को दिक्कत हो सकती है। युद्ध के दृश्य आशुतोष की खासियत रहे हैं और यहां भी वे रणभूमि की बहादुरी और बर्बरता को दर्शाने में कामयाब रहे हैं, मगर अर्जुन और संजय दत्त के वॉर दृश्यों का न होना खलता है। फिल्म की भव्यता में निर्देशक ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। नितिन देसाई का आर्ट डायरेक्शन और नीता लुल्ला का कॉस्ट्यूम इस तरह के पीरियड ड्रामा के लिए प्लस पॉइंट साबित होता है। सीके मरलीधरन की सिनेमटोग्राफी ने इतिहास के उस दौर को खूबसूरती से कैप्चर किया है। अजय-अतुल के संगीत में ‘सपना है सच है’ गाना मधुर बन पड़ा है।

slide

फिल्म ‘पानीपत’ का ऑफिशल ट्रेलर रिलीज

अर्जुन कपूर ने सदाशिव राव भाऊ की भूमिका के लिए काफी मेहनत की है। उनकी मेहनत परदे पर झलकती है। पार्वती बाई के रूप में कृति खूबसूरत लगने के साथ-साथ कन्विंसिंग भी लगी हैं। उनकी और अर्जुन की प्रेम कहानी को और आयाम दिए जाने चाहिए थे। संजय दत्त अपने रोल में दुर्दांत जरूर लगे हैं, मगर उनकी भूमिका उतनी लेयर्ड साबित नहीं हुई। सहयोगी कलाकारों में पद्मिनी कोल्हापुरे, मोहनीश बहल, सुहासिनी मुले, नवाब शाह, अभिषेक निगम आदि ने अपनी भूमिकाओं को सही ढंग से निभाया है। जीनत अमान को परदे पर ज्यादा मौका नहीं मिला है।

क्यों देखें: ऐतिहासिक फिल्मों के शौकीन यह फिल्म देख सकते हैं।

 

संजय दत्त | पानीपत | कृति सैनन | अर्जुन कपूर | Sanjay Dutt | panipat movie review in hindi | Panipat movie review | Panipat | Kriti Sanon | Arjun Kapoor

Source https://navbharattimes.indiatimes.com/movie-masti/movie-review/panipat-movie-review-in-hindi/moviereview/72379149.cms

You Might Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *